Thursday, May 21, 2009

फुलवारी/पाँच रचनाकारों की रचनायें

फुलवारी के इस अंक में प्रस्तुत है इन ग़ज़लकारों की रचनायें-

-जहीर कुरेशी की ग़ज़ल-


तिमिर की पालकी निकली अचानक।
घरों से गुल हुई बिजली अचानक।

तपस्या भंग-सी लगने लगी है,
कहाँ से आ गयी ’तितली’ अचानक।

अभी सामान तक खोला नहीं था,
यहाँ से भी हुई बदली अचानक।

समझ में आ रहा है स्वर पिता का,
विमाता कर गई चुगली अचानक।

तुम्हारी साम्प्रदायिक-सोच सुनकर,
मुझे आने लगी मितली अचानक।

ये पापी पेट भरने की सजा है,
नचनिया, बन गई तकली अचानक।

मछेरे की पकड़ से छूटते ही,
नदी में जा गिरी मछली अचानक।

पता-समीर काटेज,बी-२१,सूर्य नगर
शब्द प्रताप आश्रम के पास,
ग्वालियर-४७४०१२[म०प्र०]
मोबाइल न०-०९४२५७९०५६५


-रामकुमार 'कृषक' की ग़ज़ल-

हम हुए आजकल नीम की पत्तियाँ।
लाख हों रोग हल नीम की पत्तियाँ।

गीत गोली हुए शेर शीरीं नहीं,
कह रहे हम ग़ज़ल नीम की पत्तियाँ।

खून का घूँट हम खून वे पी रहे,
स्वाद देंगी बदल नीम की पत्तियाँ।

सुर्ख संजीवनी हों सभी के लिये,
हो रही खुद खरल नीम की पत्तियाँ।

आग की लाग हैं सूखते बाँसवन,
अब न होंगी सजल नीम की पत्तियाँ।

वक्त हैरान हिलती जड़ें बरगदी,
सब कहीं बादख़ल नीम की पत्तियाँ।

एक छल है गुलाबी फसल देश में,
दरअसल हैं असल नीम की पत्तियाँ।


पता
-सी-/५९ नागार्जुन नगर,
सादतपुर विस्तार,
दिल्ली-११००९४

-अनु जसरोटिया की ग़ज़ल-

धूप में मेरे साथ चलता था।
वो तो मेरा ही अपना साया था।

वो ज़माना भी कितना अच्छा था,
मिलना-जुलना था आना-जाना था।

यक-बयक माँ की आँख भर आई,
हाल बेटे ने उसका पूछा था।

दिल मचलता है चाँद की खातिर,
ऐसा नादां भी इसको होना था।

उसको आना था ऐसे वक्त कि जब,
कोई ग़फ़लत की नींद सोता था।

दिल है बेचैन उसके जाने पर,
बेवफाई ही उसका पेशा
था |

पता
-इन्दिरा कालोनी,
कठुआ-१८४१०१
[जम्मू और कश्मीर]

-दरवेश भारती की ग़ज़ल-

धन की लिप्सा ये रंग लायेगी।
आपसी फ़ासिले बढा़एगी।

तेरे जीवन का दम्भ टूटेगा,
ऐ ख़िज़ां जब बहार आएगी।

मुल्क में क्या बचेगा कुछ यारों,
बाड़ जब खुद ही खेत खाएगी।

इन उनींदे अनाथ बच्चों को,
लोरियाँ दे हवा सुलाएगी।

अणुबमों से सज गया संसार,
कैसे कुदरत इसे बचाएगी।

हम हैं ’दरवेश’ हमको ये दुनिया,
क्या रुलाएगी,क्या हँसाएगी।


पता-पोस्ट बाक्स न०-४५,
रोहतक -१२४००१[हरियाणा]
मोबाइल न०-०९२६८७९८९३०

-शिवकुमार ’पराग’ की ग़ज़ल-

ऐसी कविता प्यारे लिख।
जो मन को झंकारे लिख।

लौट के धरती पर आ जा,
अब ना चाँद सितारे लिख।

हवा-हवाई ही मत रह,
कुछ तो ठोस-करारे लिख।

पाला मार रहा सबको,
लिख,जलते अंगारे लिख।

दुरभिसंधियाँ फैल रहीं,
इनके वारे-न्यारे लिख।

समझौतों की रुत में भी,
खुद्दारी ललकारे लिख।

सिर पर है बाज़ार चढा़,
जो यह ज्वार उतारे लिख।

जहाँ-जहाँ अँधियारे हैं,
वहाँ-वहाँ उजियारे लिख।

हार-जीत जो हो सो हो,
लेकिन मन ना हारे लिख।

पता-म०न० /१४० एस-१०
संजय नगर[रमरेपुर],अकथा,
पहड़िया,वाराणसी[उ०प्र०]
मो०न०-९४१५६९४३६१