Monday, May 21, 2012

भजन/मेरे तो राधेश्याम रे

दोस्तों, आज एक भजन प्रस्तुत कर रहा हूँ जिसे मैनें अपने गुरुजनों से सीखा था और मुझे यह बहुत ही पसन्द है। आशा है आप को भी ये भायेगा...
                   अगर ऊपर यू ट्यूब में कोई समस्या हो तो इस रिकार्डिंग को आप यहाँ भी सुन सकते हैं...
                                      http://www.divshare.com/download/17815534-360
                                                              OR
                                      http://www.youtube.com/watch?v=WKj44m9eWjQ&feature=plcp
 आजकल फ़ायर फ़ाक्स में यू-ट्यूब काम नहीं कर रहा, इसलिये आप से ये अनुरोध है की आप इसे गूगल क्रोम में देखने का कष्ट करें....

27 comments:

  1. वाह ,,,, बहुत सुंदर आवाज ,,, भजन की अच्छी प्रस्तुति

    RECENT POST काव्यान्जलि ...: किताबें,कुछ कहना चाहती है,....

    ReplyDelete
  2. आवाज और भजन दौनों ही सहत अच्छे लगे |
    आशा

    ReplyDelete
  3. वाह ,,,, बहुत अच्छी प्रस्तुति,...
    आपका फालोवर बन गया हूँ आप भी बने तो मुझे खुशी होगी,...आभार

    RECENT POST काव्यान्जलि ...: किताबें,कुछ कहना चाहती है,....

    ReplyDelete
  4. आपकी आवाज़ सुनना चाह रहा था मगर आवाज आ ही नहीं रही है.

    ReplyDelete
  5. सुंदर भजन...
    राधे-राधे

    ReplyDelete
  6. मेरे तो राधे श्याम रे ,दुनिया वालो दुनिया सारी ....बढ़िया बंदिश है पार्श्व गायक जगमोहनजी की याद दिलाती हुई की बोर्ड और टेबल पर भी परम्परा गत संगत अच्छी रही . .कृपया यहाँ भी पधारें -
    ram ram bhai
    मंगलवार, 22 मई 2012
    ये बोम्बे मेरी जान (भाग -5)
    http://veerubhai1947.blogspot.in/
    यह बोम्बे मेरी जान (चौथा भाग )http://veerubhai1947.blogspot.in/

    तेरी आँखों की रिचाओं को पढ़ा है -
    उसने ,
    यकीन कर ,न कर .

    कृपया यहाँ भी पधारें -
    दमे में व्यायाम क्यों ?
    दमे में व्यायाम क्यों ?
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/2012/05/blog-post_5948.html

    ReplyDelete
  7. अच्छा लगा। जारी रखें।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  9. बहुत ही प्रभावित करता भजन । मेरे नए पोस्ट अमीर खुसरो पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  10. सुंदर भजन सुनाने के लिए धन्यवाद, चतुर्वेदी जी।

    ReplyDelete
  11. सुंदर भजन सुनवाने का आभार ।

    ReplyDelete
  12. प्रिय चतुर्वेदी जी मनमोहक भजन और प्यारी आवाज भी ...ये सिलसिला चलता रहे ..तो आनंद और आये
    रस -रंग भ्रमर का - में पधारने के लिए आभार ..जय श्री राधे
    भ्रमर ५
    भ्रमर का दर्द और दर्पण

    ReplyDelete
  13. Vaah sundar bhajan ... Recording Bhi bilkul saaf hai ...

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सुन्दर भजन....:-)

    ReplyDelete
  15. Very nice post.....
    Aabhar!

    ReplyDelete
  16. सुंदर भजन सुनाने के लिए ....आभार

    ReplyDelete
  17. बहुत ही सुन्दर भजन है जी ,
    मज़ा आ गया ...........

    ReplyDelete
  18. वाह बहुत सुंदर भाव प्रबल भजन ...!!
    बहुत मन से गाया ...सुमधुर प्रस्तुति ...!!
    शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  19. सुन्दर ! भक्तिमय

    ReplyDelete
  20. रस माधुर्य से संसिक्त गीत फिर चले आये संध्या को आज ...वही रस राग ..गुनगुनाने . .कृपया यहाँ भी पधारें -


    बृहस्पतिवार, 31 मई 2012
    शगस डिजीज (Chagas Disease)आखिर है क्या ?
    शगस डिजीज (Chagas Disease)आखिर है क्या ?

    माहिरों ने इस अल्पज्ञात संक्रामक बीमारी को इस छुतहा रोग को जो एक व्यक्ति से दूसरे तक पहुँच सकता है न्यू एच आई वी एड्स ऑफ़ अमेरिका कह दिया है .
    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    गत साठ सालों में छ: इंच बढ़ गया है महिलाओं का कटि प्रदेश (waistline),कमर का घेरा
    साधन भी प्रस्तुत कर रहा है बाज़ार जीरो साइज़ हो जाने के .

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/

    ReplyDelete
  21. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  22. आपके पोस्ट पर पहली बार आया हूं । आना सार्थक हुआ । मेरी कामना है कि आप सदा सृजनरत रहें ।
    मेरे नए पोस्ट "बिहार की स्थापना के 100 वर्ष" पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रेम सरोवर जी, आप पहले भी आ चुके हैं....

      Delete
  23. सुन्दर भजन,रिकॉर्ड करके रख लिया है.खूब गाएं व प्रभु की अनुकम्पा आप पर हो.

    ReplyDelete