Sunday, March 16, 2014

हास्यकविता/ जोरू का गुलाम

     मित्रों ! होली के अवसर पर एक हास्य - कविता का आडियो प्रस्तुत कर रहा हूँ | मजे की बात ये है कि ये रचना मैंने उस समय लिखी थी जब अभी मेरी शादी नहीं हुई थी | आशा है आप को ये जरूर पसंद आयेगी.....
                        आप सभी को होली की शुभकामनाएं...
      इस रचना का असली आनंद सुन कर ही आयेगा, इसलिए आपसे अनुरोध है कि नीचे दिए गए लिंक पर इसे जरूर सुनें | आप से अनुरोध है कि आप मेरे Youtube के Channel पर भी Subscribe और Like करने का कष्ट करें...

भयवश नहीं परिस्थितिवश मैं करता हूँ सब काम।
फ़िर भी लोग मुझे कहते हैं जोरू का गुलाम.......।

सुबह अगर बीबी सोई हो, चाय बनाना ही होगा;
बनी चाय जब पीने को तब उसे जगाना ही होगा;
चाय बनाना शौक है मेरा हो सुबह या शाम.......
फ़िर भी लोग मुझे कहते हैं जोरू का गुलाम.......।

मूड नहीं अच्छा बीबी का फ़िर पति का फ़र्ज है क्या;
बना ही लेंगे खाना भी हम आखिर इसमें हर्ज है क्या;
इसी तरह अपनी बीबी को देता हूँ आराम.....
फ़िर भी लोग मुझे कहते हैं जोरू का गुलाम.......।

वो मेरी अर्धांगिनी है इसमें कोई क्या शक है;
इसीलिये तनख्वाह पे मेरे केवल उसका ही हक है;
मेरा काम कमाना है बस खर्चा उसका काम.....
फ़िर भी लोग मुझे कहते हैं जोरू का गुलाम.......।

                          आप सभी को होली की शुभकामनाएं...

22 comments:

  1. होली की हार्दिक शुभकामनाऐं गुलाम को भी बेगम को भी बादशाह को भी और इक्के को भी होली रंगरंगीली हो :)

    ReplyDelete
  2. सुंदर रचना...रंगों से सराबोर होली की शुभकामनायें...

    ReplyDelete

  3. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन होली की हार्दिक मंगलकामनाएँ - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब...हास्य रंग यूँ ही बरसता रहे…होली की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति...!
    सपरिवार रंगोत्सव की हार्दिक शुभकामनाए ....

    RECENT पोस्ट - रंग रंगीली होली आई.

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर
    होली की हार्दिक शुभकामनाऐं ।
    new post: ... कि आज होली है !

    ReplyDelete
  7. कुछ तो लोग कहेंगे .. लोगों का काम है कहना .. वैसे सब यही करते हैं ... हा हा ..
    आपको और परिवार में सभी को होली कि मंगल कामनाएं ...

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर रचना.... होली की शुभकामनाएं ....

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति . होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  10. रंगीन होली/HAPPY HOLI.

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर.
    होली कि शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  12. होली के अवसर पर अच्छी हास्य-व्यंग्य भरी कविता । शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  13. आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  14. विशुद्ध हास्य रस के रंगों से सरोबार रचना ....बहुत बढ़िया..होली की शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  15. सुन्दर हास्यव्यंग

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  17. प्रशंसनीय प्रस्तुति । आप क़लम के धनी हैं ।

    ReplyDelete