Sunday, April 26, 2009

आप की जब थी जरूरत आप ने धोखा दिया

आप की जब थी जरूरत, आप ने धोखा दिया।
हो गई रूसवा मुहब्बत , आप ने धोखा दिया।


बेवफ़ा होते हैं अक्सर, हुश्नवाले ये सभी;
जिन्दगी ने ली नसीहत, आप ने धोखा दिया।


खुद से ज्यादा आप पर मुझको भरोसा था कभी;
झूठ लगती है हकीकत, आप ने धोखा दिया।


दिल मे रहकर आप का ये दिल हमारा तोड़ना;
हम करें किससे शिकायत,आप ने धोखा दिया।


पार करने वाला माझी खुद डुबाने क्यों लगा;
कर अमानत में खयानत,आप ने धोखा दिया।

11 comments:

  1. kya baat hai . lagta hai gajlo ke bahut saukin hai .

    ReplyDelete
  2. bahut umda
    अच्छा लिखा है आपने और सत्य भी , शानदार लेखन के लिए धन्यवाद ।

    मयूर दुबे
    अपनी अपनी डगर

    ReplyDelete
  3. बहुत लाजवाब. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. दिल मे रहकर आप का ये दिल हमारा तोड़ना;
    हम करें किससे शिकायत,आप ने धोखा दिया।

    अच्छा लिखा है आपने और सत्य भी , शानदार लेखन के लिए धन्यवाद ।

    चन्द्र मोहन गुप्त

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्‍छी गज़ल थी, बहुत अच्‍छा गला आपके ब्‍लाग पर आ कर भी।

    ReplyDelete
  6. दिल मे रहकर आप का ये दिल हमारा तोड़ना;
    हम करें किससे शिकायत,आप ने धोखा दिया।
    bahut khoob!!

    ReplyDelete
  7. ठान ले तो जर्रे जर्रे को थर्रा सकते है । कोई शक । बिल्कुल नही .....
    बेवफ़ा होते हैं अक्सर, हुश्नवाले ये सभी;
    जिन्दगी ने ली नसीहत, आप ने धोखा दिया....
    bahut badhiya sir gaate aur gungunaate rahiye..

    ReplyDelete
  8. बहुत बहुत शुक्रिया आपकी टिपण्णी के लिए!
    आपने बहुत ही सुंदर ग़ज़ल लिखा है!

    ReplyDelete
  9. मुझे ज़िन्दगी से गिला ऱहा,
    मेरी ज़िन्दगी से बनी नहीं,

    मैं खडा हूं ऐसे मकाम पर,
    जहां हसरतों की कमी नही...

    ReplyDelete
  10. Hi!

    download audacity software from audacity.com or freecorder from freecorder.com. You need a mic to record your voice. Follow the instructions and record your voice. Now go to divshare.com and open a free account. Upload your recording there. It will give you the HTML code for your uploaded recording. You are good to go then. Just feed the code on your blog.

    All the best.

    Manoshi

    ReplyDelete