Monday, January 21, 2013

किसने की है घात न पूछो

       मित्रों, छोटी बहर की ग़ज़लें मुझे बहुत पसन्द हैं; कहना भी और पढ़ना या सुनना भी। आज छोटी बहर की ये ग़ज़ल प्रस्तुत कर रहा हूँ। आशा ही नहीं वरन पूर्ण विश्वास है कि ये आप को पसन्द आयेगी। है न..........!

किसने की है घात न पूछो।
कैसे खाई मात न पूछो।


मैं गमगीं हूँ आज बहुत ही,
आज तो कोई बात न पूछो।


दिल की बेताबी कैसी है,
क्यों बेचैन है रात न पूछो।


देने वाला अपना ही था,
किसने दी सौगात न पूछो।


बिन बादल के क्यों होती है,
अश्कों की बरसात न पूछो।


मजबूरी में ठीक कहूँगा,
कैसे हैं हालात न पूछो।


 गीत ग़ज़ल की दुनियाँ में इस बार देखें-
बनारस के श्री विन्ध्याचल पाण्डेय की रचनाएं ....

35 comments:

  1. मजबूरी में ठीक कहुँगा, कैसे हैं हालात न पूछो, दिल में छिपे दर्द की सटीक अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार हम हिंदी चिट्ठाकार हैं

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन प्रस्तुति,,,छोटी बहर गजले,मुझे भी बहुत पसंद आती है,,,बधाई,

    recent post : बस्तर-बाला,,,

    ReplyDelete
  4. कैसे कटेगी आज की रात ....
    आज तो ऐसी बात न पूछो ???

    चलो ..मुबारक कबूलें :-)
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  5. बहुत शानदार रचना के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब ... छोटी भर में आप कमाल करते हैं ...
    बिन बादल की बरसात ... अश्कों की बरसात .... वाह लाजवाब शेर ....

    ReplyDelete
  7. बहुत हि बेहतरीन गजल हैं सर जी....
    :-)

    ReplyDelete
  8. "मजबूरी में ठीक कहूंगा ,

    कैसे हैं हालात न पूछो .

    देने वाला अपना ही था ,

    किसने दी सौगात न पूछो ."

    -प्रसन्न वदन चतुर्वेदी

    शिंदे -,दिग्विजयों की ,अब औकात न पूछो ,

    बद्जातों की कौम न पूछों

    पुरखों का इनके इतिहास न पूछों .

    एक प्रतिक्रिया ब्लॉग पोस्ट :

    किसने की है घात न पूछो

    http://pbchaturvedi.blogspot.in/

    ReplyDelete
  9. .आभार

    आपकी महत्वपूर्ण टिप्पणियों का .

    ReplyDelete
  10. देने वाला अपना ही होता है ,
    गैरों को क्या पता किससे घात होता है !!
    छोटे भाई !पूछे नहीं तो सच में सब ठीक कैसे होगा ??

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छी ग़ज़ल आपकी
    कितनी अच्छी! ये न पूछो।

    ReplyDelete
  12. आपका सोचना सही था ...वाकई बहुत पसंद आयी आपकी रचना

    ReplyDelete
  13. bahut sunder gazal lajavab
    rachana

    ReplyDelete
  14. खुद बेहतरीन गजल कहतें हैं .कद्र दान हैं आप .शुक्रिया आपकी सहज टिपण्णी का .मुबारक गणतंत्र आपको भी .

    ReplyDelete
  15. काफी सुंदर गजल
    अच्छी लगी
    सादर !

    ReplyDelete
  16. Hey There. I found your blog using msn. This is a very well written article.
    I will make sure to bookmark it and return to read more of your useful info.
    Thanks for the post. I will certainly comeback.
    my web site: propertyinturkeyforsale.net

    ReplyDelete
  17. अति सुन्दर ,भावपूर्ण रचना ...

    ReplyDelete
  18. मजबूरी में ठीक कहूंगा, कैसे हैं हालात न पूछो......बहुत खूब।

    ReplyDelete
  19. वाह .बहुत ही प्रभावशाली अभिव्यक्ति. हार्दिक आभार .

    ReplyDelete
  20. Great post. I was checking continuously this blog
    and I am impressed! Extremely useful info specifically the last
    part :) I care for such information much. I was seeking this certain information for a long time.
    Thank you and best of luck.
    Also visit my weblog - causes of acne

    ReplyDelete
  21. Great post. I was checking continuously this blog and I am impressed!
    Extremely useful info specifically the last part :)
    I care for such information much. I was seeking this certain information for a long time.
    Thank you and best of luck.
    my site - causes of acne

    ReplyDelete
  22. देने वाला अपना ही था ,
    किसने दी सौगात न पूछो ."


    सभी शेर बहुत उम्दा हैं
    कैसी ग़ज़ल ये न पूछो ....:))

    ReplyDelete
  23. यही जीवन है .
    जियो.....

    ReplyDelete
  24. क्या खूब कहा आपने वहा वहा क्या शब्द दिए है आपकी उम्दा प्रस्तुती
    मेरी नई रचना
    प्रेमविरह
    एक स्वतंत्र स्त्री बनने मैं इतनी देर क्यूँ

    ReplyDelete
  25. मजबूरी में ठीक कहूँगा
    कैसे हैं हालात न पूछो

    बहुत सुन्दर और भावपूर्ण, शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  26. badhiya rachna . comment frm mobile so short

    ReplyDelete
  27. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  28. किसने दी है घात न पूछो..
    कैसे खाई मात न पूछो...!

    बहुत खूब...
    हाल मेरा न पूछिये साहेब..
    घात वाले पीछे से वार करते हैं...

    ReplyDelete