Sunday, December 29, 2013

एक प्यार भरा नग़मा- तुमसे कोई गिला नहीं है

आज एक प्यार और दर्द भरी रचना आप के सामने प्रस्तुत है | इस रचना का संगीत-संयोजन भी मैंने किया है |   इस रचना का असली आनंद सुन कर ही आयेगा, इसलिए आपसे अनुरोध है की आप मेरी मेहनत को सफल बनाएं और नीचे दिए गए लिंक पर इसे जरूर सुनें... 
 आप सभी को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...
आप से अनुरोध है कि आप मेरे Youtube के Channel पर भी Subscribe और Like करने का कष्ट करें ताकि आप मेरी ऐसी रचनाएं पुन: देख और सुन सकें | आशा ही नहीं वरन पूर्ण विश्वास है कि आप इस रचना को अवश्य पसंद करेंगे | रिकार्डिंग कर लेने के बाद उच्चारण संबंधी कुछ त्रुटियों की ओर भी  ध्यान गया पर दुबारा रिकार्डिंग करने के बजाय मैंने उसी तरह पोस्ट कर दिया | दरअसल अकेले गायन,वादन, रिकार्डिंग आदि कई काम एक साथ करते समय कई चीजें उस समय ध्यान में नहीं आ पाती, आगे से ध्यान रखूंगा |
              
केवल AUDIO सुनने  के लिए नीचे क्लिक करें-

तुमसे कोई गिला नहीं है।
प्यार हमेशा मिला नहीं है।

कांटे भी खिलते हैं चमन में,
फूल हमेशा खिला नहीं है।

जिसको मंज़िल मिल ही जाए,
ऐसा हर काफ़िला नहीं है।

सदियों से होता आया है,
ये पहला सिलसिला नहीं है।

अनचाही हर चीज मिली है,
जो चाहा वो मिला नहीं है।

देर से तुम इसको समझोगे,
नफ़रत प्यार का सिला नहीं है।

जिस्म का नाजुक हिस्सा है दिल,
ये पत्थर का किला नहीं है।

       आप सभी को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

39 comments:

  1. बहुत खुबसूरत गजल....

    ReplyDelete
  2. so sweet sound & style.....happy new year

    ReplyDelete
  3. बहुत ही खूबसूरत गजल..
    आपकी आवाज के साथ तो और भी बेहतरीन..
    नववर्ष कि शुभकामनाएँ
    :-)

    ReplyDelete
  4. बहुत ही लाजवाब गज़ल है ... और आपकी आवाज़ ... सोने पे सुहागा ...

    ReplyDelete
  5. एक सरल और सहज सी ग़ज़ल और शायर की आवाज़ में सुनना और भी अच्छा लगा!!

    ReplyDelete
  6. Ghazal ko likhna aur phir uski dhun banana...music arrange karna sab khud karna bahut mushkil kaam hai..aap ki mehnat nazar aati hai.

    emotional ghazal hai.sunNa sukhd lagaa.
    awaz bhii acchhee lhai..

    ReplyDelete
  7. बेहद खूबसूरत गजल....लाजवाब रचना बधाई कृपया यूं ही संपर्क बनाए रखें।

    ReplyDelete
  8. अप्रतिम रचना हमारे वक्त का आदर्श स्वप्न बुनती देखती सी।

    ज़िस्म का नाज़ुक हिस्सा है दिल ये पत्थर का किला नहीं है।

    ReplyDelete
  9. नव वर्ष आपको भी सपरिवार मुबारक। सुख के पीछे दुःख खड़ा रहता है। दोनों मीत हैं।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर !
    आपको भी सपरिवार शुभ हो नववर्ष !

    ReplyDelete
  11. आपका प्रयास सराहनीय है
    नव वर्ष में भी खूब फूले फले

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया ग़ज़ल...सुन्दर प्रस्तुति.....
    नववर्ष की मंगलकामनाएं.

    अनु

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर शब्द और सुर |नववर्ष की शुभकामनाएँ दोस्त |

    ReplyDelete
  14. बहुत खूब चतुर्वेदी जी , बधाई नए वर्ष की !!

    ReplyDelete
  15. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीय-
    नव वर्ष मंगलमय हो-
    सादर

    ReplyDelete
  16. वाह ... बेहद खूबसूरत गज़ल
    नव-वर्ष मंगलमय हो

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर !
    ****************
    जो दर्द भरा बीत गया, उसको क्यों याद किया जाये
    सचमुच त्यौहार ही है जीवन,ये त्यौहार जिया जाये
    जो बीत गया न वश में है,आने वाला तो वश में हो
    है नया वर्ष आने वाला,सबको सुख प्रेम दिया जाये
    अपने दुःख में तो दुःख पाते,सबके जीवन का अनुभव है
    औरों के दुःख में सुख मिलता,औरों का दुःख जो पिया जाये
    ************नव वर्ष की मंगल कामनाएं*********

    ReplyDelete
  18. आ० बहुत बढ़िया प्रस्तुति , नव वर्ष २०१४ की हार्दिक शुभकामनाएं , धन्यवाद
    नया प्रकाशन -; जय हो विजय हो , नव वर्ष मंगलमय हो

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सुंदर रचना ...... नए साल के लिए बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएँ ...

    ReplyDelete
  20. आपको भी सपरिवार शुभ वर्ष शुभ भावनाएं समर्पित नव वर्ष स्वागतार्थ।

    सभी मुखचिठियों को नया वर्ष करता है प्रणाम ,लाये शुभ भावना और मंगल हर दिन।

    ReplyDelete
  21. आपका कार्य अत्यन्त श्रमसाध्य है। बधाई।

    ReplyDelete
  22. bahut badiya... keep posting..
    Nav-Varsh ki shubhkamnayein..
    Please visit my Tech News Time Website, and share your views..Thank you

    ReplyDelete
  23. sarthak prayas....khubsurat gazal.....nav-versh ki shubhkamnayen......

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर----
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाऐं----

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर ग़ज़ल, पढना और सुनना दोनों बहुत अच्छा लगा. हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  26. वाह ! बहुत बढ़िया प्रस्तुति . आभार . नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं .

    कृ्प्या विसिट करें : http://swapniljewels.blogspot.in/2014/01/blog-post_5.html

    http://swapniljewels.blogspot.in/2013/12/blog-post.html

    ReplyDelete
  27. सुन्दर गायन और रचना. नव-वर्ष मंगलदायी हो.

    ReplyDelete
  28. क्या बात है , आनंद दायक !!

    ReplyDelete
  29. सुन्दर शब्द-चयन । सुन्दर भावाभिव्यक्ति । मज़ा आ गया ।

    ReplyDelete