Sunday, July 12, 2009

दिल का कहना जरूर माना करो

दिल का कहना जरूर माना करो।
ख़ुद को ख़ुद से ख़फ़ा किया ना करो।

चीज कोई जो तुमको पानी है ,
ख़ुद को उसके लिए दीवाना करो।

जब भला तुम किसी का कर न सको ,
तुम किसी का कभी बुरा ना करो।

आजमाते रहे हो जीवन भर,
बन्द अब ख़ुद को आजमाना करो।

झूठी तारीफ़ रूबरू जो करे,
उसको हमदर्द तुम न माना करो।

तुममें भी इक खु़दा तो रहता है,
तुम हमेशा खु़दा-खु़दा ना करो।